बुधवार, 10 फ़रवरी 2021

नफे सिंह योगी मालड़ा


माता जी            श्रीमती विजय देवी

पिता जी            श्री बलवीर सिंह (शारीरिक प्रशिक्षक)

व्यवसाय           सैनिक(30 अगस्त 1997 से वर्तमान)

भाई                  रामबीर सिंह (सैनिक)

पत्नी                श्रीमती सुशीला देवी

संतान               रोहित कुमार, मोहित कुमार

जन्म                9 नवंबर 1979 (शुक्रवार)

जन्म स्थान         गांव मालड़ा सराय, जिला महेंद्रगढ़(हरि)

शैक्षिक योग्यता : जे .बी .टी.,एम.ए. (हिंदी प्रथम श्रेणी)

अन्य योग्यताएँ    : शिक्षा अनुदेशक कोर्स

                        शारीरिक प्रशिक्षण कोर्स

                        योगा कोर्स में स्वर्ण पदक

                        वॉलीबॉल कोचिंग कोर्स

                        जूनियर कम्बैट लिडर कोर्स

                        अंग्रेजी भाषा कोर्स

अभिरुचियाँ    :    कविता लिखना,गाना,योग करना -करवाना, खेलना और उत्प्रेरित करना आदि।

प्रकाशित पुस्तकें -1.देश की बात (काव्यसंग्रह-2017)

    2.मंजिल से पहले रुकना मत (काव्यसंग्रह - 2018)

                3.मौत से मस्ती (काव्य संग्रह-2019)

                       प्रकाशनाधीन पुस्तकें

                       1.मिलन (कहानी संग्रह)               

                       2.ये फर्ज अदा करना होगा(काव्य संग्रह)

                        3.उम्मीदों की धारा (काव्य संग्रह) 

                        4. आखिरी सलाम (काव्य संग्रह)

                        5.म्हारी माटी म्हारी शान(रागनियाँ)

सांझा संकलन -1. रक्तदान (काव्य संकलन)

                     2. लाल सोना (कहानी संकलन)

                     3. रिश्तो की महक (कहानी संकलन)

                     4.नारी नारायणी (कविता) वर्तमान अंकुर

                     5.आपातकाल में सृजन(काव्य संग्रह)

                     6.करुणा (काव्य संग्रह) साहित्य उत्थान

                     7.पैमाना(काव्य संग्रह) साहित्य उत्थान                           8. शहादत इक इबादत

विशिष्ट उपलब्धियाँ : 

* निर्मला स्मृति हरियाणा गौरव साहित्य सम्मान-2019

*साहित्य सारथी गौरव सम्मान- 2019 

*विश्व हिंदी रचनाकार मंच द्वारा शब्द शिल्पी सम्मान 2020

*फेसबुक पर विभिन्  हिन्दी साहित्य समूहों में पिछले 5 साल से  रचनाओं का निरंतर सम्मान एवं समुहों द्वारा आयोजित कविता ,कहानी ,गीत व लघुकथा आदि प्रतियोगिताओं में सैकड़ों बार पुरस्कृत। 

*हिंदी साहित्य की प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में 12 साल से निरंतर रचनाओं का स्वागत।

*स्वामी रामदेव योग गुरु द्वारा योग और हिंदी साहित्य में योगदान हेतु प्रशंसा पत्र।

*बोलता साहित्य विद रवि यादव यूट्यूब चैनल से अभी तक 10 रचनाओं को आवाज मिलने का ऐतिहासिक गौरव। 

*फेसबुक के  50 से ज्यादा हिंदी साहित्य समूहों में प्रशस्ति पत्रों से सम्मानित।

*18 वर्षों से सैन्य पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का निरंतर प्रकाशन ।

*सेना में डिवीजन स्तर पर कविता पाठ ,निबंध लेखन एवं वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में अनेक बार पुरस्कृत।

 *संयुक्त राष्ट्र संघ शांति सेना सेवा के दौरान  ब्रिगेड कमांडर द्वारा प्रशंसा पत्र से पुरस्कृत।

* भारतीय सेना के दक्षिणी कमान के कमान अधिकारी महोदय द्वारा विशिष्ट उपलब्धियों हेतु प्रशंसा पत्र और सेना में सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भागीदारी एवं मंच संचालन का 20 वर्षों का अनुभव।


  




कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें