सोमवार, 11 मार्च 2013

पंकज त्रिवेदी


पंकज त्रिवेदी
जन्मतिथि:    11 मार्च 1963
जन्मस्थान : खेराली, तहसील-वढवाण, जिला- सुरेन्द्रनगर (गुजरात)
शिक्षा  :         बी.ए.,  बी.एड्., जर्नलिज्म इन मॉस कम्युनिकेशन
भाषा :        गुजराती, हिन्दी, अंग्रेजी
पारिवारिक परिचय:
माता:             स्व.शशीकला त्रिवेदी
पिता:             स्व॰ अमृत त्रिवेदी
पत्नी:              श्रीमती स्मिता त्रिवेदी
संतान         
पुत्रियाँ:        गाथा और विश्वा

प्रकाशित पुस्तकों की सूचि -
1982- संप्राप्तकथा (लघुकथा-संपादन)-गुजराती 1996- भीष्म साहनी का श्रेष्ठ वार्ताओं का हिंदी से गुजराती अनुवाद 1998- अगनपथ (लघुउपन्यास)-हिंदी 1998- आगिया (रेखाचित्र संग्रह)-गुजराती 2002- दस्तख़त (सूक्तियाँ)-गुजराती 2004- माछलीघरमां मानवी (कहानी संग्रह)-गुजराती 2005- झाकळना बूँद (ओस के बूँद) (लघुकथा संपादन)-गुजराती 2007- अगनपथ (हिंदी से गुजराती अनुवाद) 2007- सामीप्य (स्वातंत्र्य सेना के लिए आज़ादी की लड़ाई में सूचना देनेवाली उषा मेहता, अमेरिकन साहित्यकार नोर्मन मेईलर और हिन्दी साहित्यकार भीष्म साहनी  की मुलाक़ातों पर आधारित संकलन) तथा मर्मवेध (निबंध संग्रह हिन्दी ) - आदि रचनाएँ गुजराती में। 2008- मर्मवेध  (निबंध संग्रह गुजराती अनुवाद)-गुजराती 2010-  झरोखा (निबंध संग्रह)-हिन्दी 
विशेष :
संपादक : नव्या हिन्दी साहित्यिक त्रैमासिक पत्रिका और ई-पत्रिका
लेखन- कविता, कहानी, लघुकथा, निबंध, रेखाचित्र, उपन्यास ।
पत्रकारिता- राजस्थान पत्रिका ।
अभिरुचि- पठन, फोटोग्राफी, प्रवास, साहित्यिक-शैक्षिक और सामाजिक कार्य ।
सलाहकार- बाल श्रम उन्मूलन समिति, जिला-सुरेन्द्रनगर,गुजरात
पुरस्कार व सम्मान : सहस्राब्दी विश्व हिंदी सम्मेलन में तत्कालीन विज्ञान-टेक्नोलॉजी मंत्री श्री बच्ची सिंह राऊत के द्वारा सम्मान।
संप्रति  : लिपिक, श्री सी. ऍच. शाह मैत्रीविद्यापीठ महिला कोलेज ऑफ एजयुकेशन, सुरेन्द्रनगर , गुजरात
संपर्क  : ॐ, गोकुल पार्क सोसायटी, 80 फीट रोड़, सुरेन्द्रनगर – 363 002 गुजरात
मोबाइल:      09662514007 / 09409270663  फोन: 02752-232823
ईमेल: editornawya@gmail.com
वेबसाईट  : www.nawya.in

3 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन ....सभी कुछ बताया पंकज जी ....अपनी रुचियाँ और स्वभाव भी बताइए तो और भी अच्छा लगेगा ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. त्रिवेदी से नव्या में माध्यम से परिचित हैं आज आपके माध्यम से परिचय जानकार बहुत अच्छा लगा ..
    बहुत सुन्दर पहल ...

    उत्तर देंहटाएं