शनिवार, 18 अगस्त 2012

डॉ॰ शेरजंग गर्ग



डॉ. शेरजंग गर्ग
जन्म की तारीख : 29 मई, 1937
जन्मस्थान : देहरादून, उत्तरप्रदेश(अब उत्तराखण्ड)
शिक्षा-एम॰ए॰, पीएच॰डी॰
भाषाज्ञान हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दूपारिवारिक परिचय:
माता- श्रीमती सावित्री देवी
पिता- डॉ॰ महेन्द्र सिंह
पत्नी- श्रीमती मंजु गर्ग
संतान-पुत्र- उत्सव गर्ग पुत्री-रचना जैन

प्रकाशित पुस्तकें -कविता संग्रह-चंद ताज़ा गुलाब तेरे नाम, क्या हो गया कबीरों को; व्यंग्य-स्वातंत्र्योत्तर हिन्दी कविता में व्यंग्य, व्यंग्य के मूलभूत प्रश्न, बाज़ार से गुज़रा हूँ, दौरा अन्तर्यामी का; बालसाहित्य-गीतों के रसगुल्ले, खिड़की, सुमन बालगीत, अक्षरगीत, नटखट गीत, गुलाबों की बस्ती, शरारत का मौसम, पक्षी उड़ते फुर फुर फुर, पशु चलते हैं धरती पर, यदि पेड़ों पर उगते पैसे, भालू की हड़ताल, सिंग बर्ड सिंग, गीतों की आँख मिचौली, नटखट पप्पू का संसार(ब्रह्मदेव के साथ), चहक भी ज़रूरी महक भी ज़रूरी(प्रभाकिरण जैन के साथ) संपादित-ग़ज़लें ही ग़ज़लें, नया ज़माना नयी ग़ज़लें, नयी पाकिस्तानी ग़ज़लें, मुक्तक और रुबाइयाँ हिन्दी कार्यान्वयन-हिन्दी में काम अगणित आयाम
पुरस्कार व सम्मान-हिन्दी अकादमी, दिल्ली द्वारा श्रेष्ठ बालसाहित्य के लिए दो बार पुरस्कृत, प्रथम गोपाल प्रसाद व्यास व्यंग्यश्री पुरस्कार से सम्मानित, काका हाथरसी हास्य रत्न से अलंकृत।
संरक्षक-समय-सुरभि (त्रैमासिक), नई ग़ज़ल (द्विमासिक)।
सम्प्रति-स्वतंत्र लेखन।
संपर्क का पता : बी-290, सुशांत लोक फेज़-1, गुड़गाँव-122002
ई-मेलsherjunggarg@gmail.com

2 टिप्‍पणियां:

  1. अख़तर जावेद उस्मानी खोंगापानी22 अक्तूबर 2016 को 7:24 pm

    इनका संकलन मुक्तक और रूबाईयां वाह वाह वाह वाह।
    क्या उपलब्ध हैं तो कहां ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अख़तर जावेद उस्मानी खोंगापानी22 अक्तूबर 2016 को 7:25 pm

    संकलन मुक्तक और रुबाईयां वाह वाह वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं