शनिवार, 30 जून 2012

पारस दासोत

पारस दासोत

जन्म दिनांक : 14 अगस्त 1945
जन्म स्थान : ग्राम: बडू, जिला: नागौर, राजस्थान, भारत
माता : श्रीमती रतन कुंवर दासोत
पिता : स्व. प्रतापमल दासोत
पत्नी : श्रीमती विमला दासोत
पुत्र : कुलदीप दासोत
शिक्षा : एम.ए. (भूगोल), एल.एल.बी.
भाषा ज्ञान :हिन्दी, अंग्रेजी, राजस्थानी
सम्प्रति: सेवानिवृत्त प्राचार्य (महाविद्यालय)
कला : चित्रकार, मूर्तिकार एवं दृष्टि शोधक कलाकार; हजारो तेल, जल चित्रों, रेखांकनों का सृजन ; मूर्तिकला जगत में खनिज कोयलाका मूर्तिकला में एक अभिनव प्रयोग (रिदम आर्ट सोसायटी भोपाल द्वारा आयोजित सामुहिक कला प्रदर्शनी 1977 में पहली बार प्रदर्शन एवं पुरस्कृत); आठ एकल कला प्रदर्शनियों का आयोजन (तीन एकल कला प्रदर्शनियाँ म.प्र. कला परिषद, भोपाल के सहयोग से आयोजित; अखिल भारतीय मूर्तिकला शिविर 2007 में भागीदारी। (स्वराज संस्थान संचालनालय, भोपाल द्वारा, स्वाधीनता संग्राम पर आयोजित शिविर जन0 2007 में खनिज कोयला शिल्प श्रद्धांजलिका सृजन); आर्ट एक्सपो भारत मुम्बई 2009 में कलाकृतियाँ;
कलाकृतियाँ सार्वजनिक प्रतिष्ठानों एवं निजी संग्रह में:-
         राजकीय प्रज्ञा प्रतिष्ठान, काठमाण्डू, नेपाल 1978
         पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्रीमती इंदिरा गांधी, 1975
         म.प्र. कला परिषद, भोपाल, 1981
         महावीर इन्टरनेशनल, जयपुर राज. 1981
         मण्डल रेल प्रबन्धक, मध्य रेल्वे भोपाल, 1986
         बरकत उल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल 1978
         सम्राट अशोक अभियांत्रिकीय संस्थान (इंजिनियरिंग महाविद्यालय विदिशा. म.प्र.) के विज्ञान पार्क में 1998
         श्री लाल बहादुर शास्त्री महाविद्यालय, गंज बासौदा म.प्र. 2000
         स्वराज संस्थान संचालनालय, भोपाल 2007
         कई कलाकृतियाँ देश-विदेश के कला प्रेमियों के निजी संग्रह में।
·        प्राकृतिक कलाकृतियों की खोज एवं विशाल संग्रह (तीन हजार से भी अधिक प्राकृतिक कलाकृतियों का संग्रह)
·        देश के प्रख्यात कलाकारों की कलाकृतियों, उपकरणों, पत्रों, छायाचित्रों के एलबमों का संग्रह
·        पत्र पत्रिकाओं, पुस्तकों पर आवरण चित्र एवं रेखांकन
            एकल लघुकथा संग्रह:
·        एक और अभिमन्यु‘ 1986; प्रयोग‘ 1988; परसु‘ 1989; कदम बढ़ाती चूडियाँ‘ 1990 (नारी विषय पर केन्द्रित लघुकथा जगत का पहला संग्रह); समक्ष‘ 1991; पुस्तक की आवाज‘ 1991; ईश्वर‘ 1993 (एक प्रतीक पर केन्द्रित लघुकथा जगत का पहला संग्रह); तेरी मेरी उसकी बात‘ 1996; सिटीवाला रबर का गुड्डा‘ 1998 (बालवेश्यावृति पर केन्द्रित एकल संग्रह। पाकिस्तान के ख्यात मनोचिकित्सक डॉ॰ मंजर हसन द्वारा उर्दू अनुवाद। प्रकाशनः लोहे अदब‘ (सिंध हेदराबाद); सीधी है भोली कला...... 2009; मेरी मानवेतर लघुकथाएँ‘ 2011(लघुकथा जगत का पहला एकल संग्रह); मेरी मनोवैज्ञानिक लघुकथाएं 2012 (लघुकथा जगत का पहला एकल संग्रह);
·        लघुकथाओं का अनुवाद:
            * एक सौ एक लघुकथाओं का उर्दू अनुवाद पारस पत्थर‘ 1992 अनुवादक: श्री असद अली
            * ईश्वर का अंग्रेजी अनुवाद। अनुवादक: प्रो. अब्दुल मजीद शेख (1999)
            * पंजाबी, नेपाल, गुजराती, राजस्थानी भाषा में (डेढ़ सौ से भी अधिक लघुकथाओं का पत्र-पत्रिकाओं में अनुवाद प्रकाशित)
  • सम्पादन: उदयमहाविद्यालय की पत्रिका का सम्पादन (1993)
  • पुरस्कार: *  अखिल भारतीय लघुकथा पुरस्कार (1982-93) * 1982 ‘सिफारिशलघुकथा विशेष पु. प्रज्ञामंच सांपला (हरि.) * 1982 ‘भारतलघुकथा प्रथम पु. समबेधन, कांकरोली राज. *  1982 ‘झंडाश्रेष्ठ  लघुकथा लघुआघात इन्दौरम.प्र. * 1983 ‘तुम कौन होप्रोत्साहन पु. युवा रचनाकार समिति फैफाना राज. * 1984 ‘उतार लोतृतीय पु. क्षितिज युवा मंच इन्दौरम.प्र. * 1985 ‘उल्टे अक्षरप्रोत्साहन अवसर सा.प्रतियोगिता पटना * 1986 ‘कुआँ और कुआँप्रथम् युवा रचनाकार समिति अलवर * ‘1986‘ ‘आज हीप्रोत्साहन आगमन‘, रेवाड़ी * 1987 ‘झुलसे हुए पतेप्रोत्साहन पु. इतिहास मंच, मुंगेर * 1988 ‘तेरी मेरी बेटीद्वितीय पु. सुगनचंद मुक्तेश प्रतियोगिता, सिरसा (हरियाणा) * 1992 ‘साॅरी कामरेड़विशेष पु. तब्बत बुलेटिन धर्मशाला
हाइकु एकल संग्रह:
विमलाभाग 1 एवं 2, 1996 (फोल्डर, लघुकथा विद्या पर केन्द्रित हाइकु) * कला की कला‘ 2000 (हाइकु जगत की पहली डिजीटल कम्प्यूटर पुस्तक) * जीवन‘ 2001 (डिजिटल कम्प्यूटर पुस्तक) * देखा मैंने भूख को‘ 2001(‘भूखविषय पर केन्द्रित हाइकु) * आ चलें गाँव‘ 2001(‘गाँवविषय पर केन्द्रित हाइकु);
* ** कई हाइकु कविताओं का देश-विदेश की भाषाओं में अनुवाद
सम्मान      : *रिदम आर्टस सोसायटी, भोपाल द्वारा अप्रेल 1977 * अखिल भारतीय कला प्रदर्शनी, 1979; नवांकुर विद्यापीठ, बासौदा 28 जून 1982; * युवा कांग्रेससम्मान 6 फरवरी 1984; * प्रगति क्लब, बासौदा, 2 अक्टू 1984; * शिक्षक सम्मानगंज बासौदा.म.प्र. 5 सित. 1993; * अ.भा. प्रगतिशील लघुकथा मंच, पटना द्वारा 26 सित.1993; *    लघुकथा महोपाध्यायमानद उपाधि‘, दिनकर साहित्य शोध संस्थान, बेगुसराय, पटना (बिहार) 22 जन. 1995; * शिक्षक (प्राचार्य) सम्मान ब्लाॅक युवक कांगे्रस द्वारा 5 सित.1995; * सेवा सम्मानरतीचन्द जैन जन्म दिवस, गंज बासौदा. 5 सित. 1997; * प्राचीस्टेट बैंक आॅफ इन्दौर, बासौदा द्वारा 5 अक्टूबर 1997 * रोटरी क्लबबासौदा द्वारा 21 नव. 1998 * रजत जयन्ती सम्मान‘ ‘नवांकुर विद्यापीठ, बासौदा 19 अक्टू 2003 * हिन्दी सेवा सम्मानजैमिनी अकादमी, पानीपत, 15 सितं. 2005 * कला मनीषीसम्मान, जिला प्रशासन विदिशा म.प्र. द्वारा म.प्र. राज्य की स्थापना के 50 वर्ष पूर्ण होने पर स्वर्ण जयंति समारोह 25 नवं 2005 * अजंता ललित कला एवं समाज कल्याण समिति, भोपाल द्वारा 31 मार्च 2007 * विदिशा गौरवअलंकरण रतनशी शाह स्मृति न्यास विदिशा, द्वारा 22 अपे्रल 2007 * राष्ट्रभाषा विद्यालंकारअलंकरण, अन्तर्राष्ट्रीय सम्मानोपाधि संस्थान, कुशीनगर उ.प्र. दिसं. 2007 * ईश्वर-पार्वती स्मृति सम्मानसाहित्य कलश इन्दौर, म.प्र. 2008 * सरस्वती-पार्वती स्मृति सम्मानसाहित्य कलश इन्दौर म.प्र. 2008 *सरस्वती पुत्र सम्मान‘ 2011 म.प्र. लघुकथाकार परिषद जबलपुर (म.प्र.) 20 फरवरी 2011
सम्पर्क : पारस दासोत, प्लाट नं. 129 गली नं. 9 बी, मोतीनगर, क्वींस रोड़, वैशाली नगर, जयपुर-302021 (राज0)
टेलीफोन नं. 09413687579
वैबसाइट: www.parasdasot.com
ई मेल: kuldeepdasot@gmail.com



1 टिप्पणी:

  1. बलराम भाई, केवल चित्र प्रस्तुत करने का लाभ? जिन लोगों ने परिचय न भेजकर चित्र ही भेजे हैं उनके चित्र सुरक्षित रख लेते और परिचय आने के बाद प्रकाशित करते. मेरी सलाह है कि इन दोनों को फिल हाल हटा दो. एक बात और धूमिल, अनामिका और नईम जी के परिचय इतने छोटे फांट में हैं कि पढ़ना कठिन है. इन्हें सम्पादन में जाकर पुनः बड़े फाण्ट में प्रकाशित करो.

    उत्तर देंहटाएं